डेयरी फार्मिंग बिज़नेस कैसे शुरू करें? Indian dairy farm business plan in hindi

आज  हम आपके लिए एक और बिज़नेस से जुड़े टॉपिक पर ब्लॉग लेकर आये हैं, आज हम बात करेंगे Indian dairy farm business plan in hindi के बारे में, अगर आप Indian dairy farm business के बारे में जानकारी लेना चाहते हैं तो ये ब्लॉग आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होने वाला है, चलिए आगे बढ़ते हैं और बात करते हैं कि Indian dairy farm business स्कोप और डिमांड कितना है?

Indian Dairy Farm Business Plan In Hindi

Scope & demand :- 

हम अगर आपसे स्कोप और डिमांड की बात करें तो आज हम सभी के घर में 4 से 5 बार तो चाय बन ही जाती है, और 1 से 2 किलो दूध कहां गायब हो जाता है पता ही नहीं चलता है, यानि कि दूध की डिमांड बहुत ही ज्यादा मात्रा में है, हमारा देश पूरे विश्व में होने वाले दूध उत्पादन का 18.5 % हिस्सा उत्पादन करता है।

इससे साफ़ साफ़ ये तो समझ आ ही रहा है कि  दूध की डिमांड हमारे देश में कितनी अधिक है, अभी हाल फिलहाल में भारत सरकार के द्वारा एक रिपोर्ट पेश की गई जिसमे 2014 से लेकर 2017 तक किसानो की आय में 25% तक की बढ़ोत्तरी पाई गई,

इतना ही नहीं 2013/14 की तुलना में साल 2016 और 2017 दूध का उत्पादन कई गुना बढ़ा पाया गया।

मेडिकल स्टोर कैसे शुरू करें – Medical Store Kaise Khole?

हम सभी लोग रोटी खाते हैं, रोटी पर भी उन्हीं का इस्तेमाल करते हैं दही खाते हैं इन सभी चीजों में दूध का इस्तेमाल किया जाता है, आप अगर दूध और दूध से बने प्रोडक्ट बेच सकते हैं तो आप लाभ बहुत ही ज्यादा पाएंगे और अच्छे से बिजनेस कर सकेंगे।

पशुपालन व्यवसाय करने का तरीका :-

इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको सबसे पहले गाय का चुनाव करना होता है, आप इस बिजनेस को शुरू करने के लिए छोटे स्तर पर से भी कार्य शुरू कर सकते हैं,

जैसे कि आप एक से दो लाख में भी इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं और अगर आप बड़े स्तर पर इस बिज़नेस को करना चाहते हैं तो आप 10 से 15लाख रुपए इन्वेस्ट करके भी इस बिज़नेस को शुरू कर सकते हैं।

छोटे स्तर का फार्म :-

अगर आपके पास ज्यादा पैसा नहीं है तो आप कम पैसे में भी इस व्यापार को शुरू कर सकते हैं, आप शुरू में 5 भैसों या गायों की मदद से डेरी फार्म को शुरू कर सकते है, भैसें लेते वक़्त उनका सही चुनाव बहुत ही आवश्यक है,

गाय या भैसें अच्छी नस्ल की होनी  चाहिए अगर अच्छी नस्ल की भैसें होगी तो आपको 1 दिन में 10 लीटर दूध तक मिल सकता है।

माध्यम स्तर का फार्म:-

माध्यम स्तर के व्यापर को चलने के लिए कम से कम आपको 8 से 10 लाख रूपए तक जरूरत पड़ सकती है, माध्यम स्तर फार्म में आपके पास 18 से 20 गाय या भैसें हो सकती है, अगर लाभ की बात करे तो इसमें आपको 1 लाख रूपए तक कमाया जा सकता है।

डेयरी फार्म खोलने की प्रक्रिया:-

स्थान का चयन करना:-

इस व्यवसाय को करने से पहले आप एक बात का ध्यान रखें कि आपको एक जगह है सी लेनी पड़ेगी जहां पर आप अपने जानवरों को रख सकें ऐसे में स्थान का चुनना बेहद जरूरी होता है।

आपको यह ध्यान में रखना होगा कि उस स्थान पर पानी की कैसी सुविधा है… क्योंकि गायों को अच्छा खासा पानी पीने के लिए चाहिए होता है साथ ही साथ गर्मी के मौसम में भैंसों या गायों को हवा देने के लिए पंखे की जरूरत भी पड़ती है इसीलिए आपको यह देखना होगा कि आप के स्थान पर बिजली की सुविधा उपलब्ध हो।

आप 1 या 2 एकड़ जमीन पर ही अपने डेरी फार्म  को खोलें क्योंकि गायों भैंसों के लिए खाने के सामान को रखने के लिए आपको पर्याप्त जगह की जरूरत पड़ेगी।

साथ ही साथ आपको ऐसी जगह चुननी चाहिए जिसमें आप दूध से बने हुए प्रोडक्ट आसानी से मार्केट में पहुंचा सकें, और जगह ऐसी होनी चाहिए जहां पर आपके प्रोडक्ट जैसे दूध या दूध से बने कोई भी प्रोडक्ट हो सकते हैं उनके लिए अच्छी डिमांड मौजूद होनी चाहिए

जिससे आपको सप्लाई देने में ज्यादा दिक्कत ना हो, अगर आप इस बिजनेस को नाबार्ड की सहायता से करते हैं तो आपको इसमें सब्सिडी मिल जाती है।

गाय भैंस के रहने के लिए आवास:-

आपको ऐसी जगह का चुनाव करना होगा जहां पर गाय और भैसों को रख सकें, जगह ऐसी होनी चाहिए जहां पर गायों और भैसं के लिए सर्दी, गर्मी और बारिश इन तीनों मौसम में किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो,

आवास में आपको लकड़ी, खूंटे और भी अन्य चीजों की व्यवस्था करनी पड़ेगी, और साथ ही साथ गायों के पीने के लिए पानी की व्यवस्था करनी पड़ेगी, और साथ ही साथ गायों के खाने के लिए पौष्टिक आहार की व्यवस्था भी करनी होगी,

आप जितना गायों को पौष्टिक आहार खिलाएंगे उतना ही अच्छी क्वालिटी में गाय आपको दूध देगी, आहार ऐसा होना चाहिए जिसमें प्रोटीन की मात्रा ज्यादा हो इससे गायों की दूध देने की क्षमता भी बढ़ जाती है और उसकी क्वालिटी भी बढ़ जाती है।

समय-समय पर आपको गायों और भैंसों को नहलाना भी होगा क्योंकि ऐसे में गाय गंदी भी हो सकती हैं गोबर वगैरह भी लग सकता है तो आपको समय पर उनको नहलाना भी होगा।

देसी गाय को चुनाव:-

देसी गाय का चुनाव इसलिए करना चाहिए कि देसी गाय में खासियत होती है वह मौसम के हिसाब से अपने शरीर को डाल सकती हैं, आप उन्हें अगर किसी भी मौसम में रखते हैं तो उनके दूध में ज्यादा अंतर नहीं आता है।

मान लीजिए अगर कोई देसी गाय 8 से 9 किलो दूध देती है और अगर उसे किसी दूसरी जगह पर रखा जाए तो वहां पर भी उसका दूध 8 से 9 किलो के लगभग ही निकलता है यानी कि दूध की मात्रा जगह परिवर्तन से कम नहीं होती है।

भैसें कहाँ से खरीदें :-

भारत सरकार की तरफ से इस व्यापर को बढ़ावा देने के लिए कई तरह से मदद की जा रही है, इसके लिए सरकार के द्वारा एक ऑनलाइन पोर्टल तैयार किया गया है, जिसपर जाकर आप भैसे खरीद सकते हैं।

https://epashuhaat.gov.in/. इस लिंक पर जाकर आपको कई तरह की गाय और भैसों की नस्लें मिलेगी, आप यहाँ गायों को खरीद और बेच भी सकते हैं,  इस पोर्टल के अलावा आप अपने आस-पास के किसी गांव के किसान से भी भैंस खरीद सकते हैं.

अगर आप खुद का डेरी प्लांट खोलना चाहते है तो आपके प्लांट की लागत का सरकार 90% आपको लोन में मदद करेगी, यानी कि आपको डेयरी प्लांट खोलने के लिए सिर्फ 10 % रुपए की जरूरत पड़ेगी,

यानी कि आप अगर 10लाख का डेरी प्लांट खोलना चाहते हैं तो ऐसे में आपको सिर्फ ₹1लाख की जरूरत पड़ेगी और ₹9 लाख सरकार आपको लोन के तौर पर दे देगी।

आज हम यहां पर आपसे बात करने वाले हैं कि सरकारी सब्सिडी कैसे मिलेगी? लोन कैसे मिलेगा,

यह ऐसा बिजनेस है जिसकी डिमांड और मांग दोनों ही बहुत ही ज्यादा बड़ी रहती है चाहे कैसा भी समय हो दूध’ की डिमांड बराबर बड़ी ही मिलेगी,

सरकार में भी पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए कई सारी योजनाएं शुरू की हैं, योजनाओं का लाभ उठाकर लोग अपना काम शुरू कर सकते हैं।

Dairy entrepreneur development scheme:-

यह ऐसी योजना है जो केंद्रीय सरकार के द्वारा चलाई जाती है, इस योजना के तहत इस बिजनेस को करने वाले को लगभग 25 से 30 परसेंट तक की सब्सिडी मुहैया कराई जाती है,

इस योजना के लिए राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक की तरफ से छूट यानी की सब्सिडी मुहैया कराई जाती है, अगर आप 10 भैंस की डेयरी का बिजनेस खोलना चाहते हैं तो आपको नाबार्ड की सहायता से ₹700000 तक का कर्ज दिया जाएगा, सामान्य वर्ग के लिए यह सब्सिडी 25 परसेंट होती है और अन्य किसी वर्ग के लिए यह सब्सिडी 35 परसेंट रखी गई है।

व्यापार करने का तरीका:- (Indian dairy farm business plan in hindi)

व्यापार को करने के दो तरीके हैं पहला तरीका : आप दूध को किसी कंपनी को भेज सकते हैं ऐसी बहुत सारी कंपनियां हमारे देश में है जिन्हें दूध की जरूरत पड़ती है, और दूसरा तरीका आप अपनी कंपनी खोल कर दो उसको बाजार में सीधे भेज सकते हैं हालांकि अपनी कंपनी खोलने के लिए आपको थोड़ी ज्यादा मेहनत करनी पड़ सकती है

लेकिन आप अगर इतना नहीं कर सकते हैं तो आप दूध से बनने वाले उत्पादों को भेज सकते हैं जैसे दही पनीर मक्खन आदि।

भैंस या गाय को खरीदते समय ध्यान देने वाली बातें:-

गायों को दिया जाने वाला खाना:-

अगर आप चाहते हैं कि आपकी गाय अच्छा खासा दूध दे, ज्यादा मात्रा में दूध दें तो आपको उसी हिसाब से अपने गायों को या भैंस को खाने के लिए देना होगा किसी भी गाय के दूध देने की क्षमता निर्भर करती है कि वह कैसा खाना खाते हैं

इसलिए आपको खाने का अच्छा खासा ध्यान रखना होगा साथ ही  गायों को दिया जाने वाला खाना जो कि सूखा चारा और ताजी खास होता है इसके अलावा भैंसों को कई तरह के मिनरल्स वाली चीजें भी दे सकते हैं।

सावधानी की जरूरत:-

आप उन्हें सही तरह का खाना दे अगर आप उनको खराब खाना देंगे उनकी सेहत खराब हो सकती है इसके अलावा समय-समय पर भैसों  की जांच पड़ताल करते रहे, उनको डॉक्टर को दिखाते रहें इतना ही नहीं भैंसों के वक्सीनशन भी किए जाते हैं ऐसे में भैसों  को समय-समय पर वक्सीनशन करवाएं  जिनसे उन्हें कोई बीमारी ना हो।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *